राधे कृष्ण की ज्योति अलोकिक तीनों लोक में छाये रही है

राधे कृष्ण की ज्योति अलोकिक,
तीनों लोक में छाये रही है
भक्ति विवश एक प्रेम पुजारिन,
फिर भी दीप जलाये रही है
कृष्ण को गोकुल से राधे को
कृष्ण को गोकुल से राधे को,
बरसाने से बुलाय रही है ।।

दोनों करो स्वीकार कृपा कर,
जोगन आरती गाये रही है
दोनों करो स्वीकार कृपा कर,
जोगन आरती गाये रही है।।

भोर भये ते सांज ढ़ले तक,
सेवा कौन इतनेम म्हारो
स्नान कराये वो वस्त्र ओढ़ाए वो,
भोग लगाए वो लागत प्यारो
कबते निहारत आपकी ओर
कबते निहारत आपकी ओर,
की आप हमारी और निहारो।।

राधे कृष्ण हमारे धाम को,
जानी वृन्दावन धाम पधारो
राधे कृष्ण हमारे धाम को,
जानी वृन्दावन धाम पधारो।।

Radhe krishna ki Jyoti Alaukik
Teeno Lok Me Chhaye Rahi Hai

Bhakti Vivash Ek Prem Pujarin
Phri Bhi Deep Jalaye Rahi Hai

Krishna Ko Gokul Se Radhe Ko
Krishna Ko Gokul Se Radhe Ko
Barsaane Se Bulaaye Rahi Hai

Dono Karo Swikaar Kripa kar
Jogan Arati Gaaye Rahi Hai

Dono Karo Swikaar Kripa kar
Jogan Arati Gaaye Rahi Hai

Bhor Baye Te Saanjh Dhale Tak
Seva Ko Nit Nem Hamaro

Snan Karaye Vo Vastra Udaaye
Vo Bhog Lagaye Vo Lagat Pyaro

Kab Te Nihaarat Aap Ki Aur
Kab Te Nihaarat Aap Ki Aur
Ki Aap Hamari Aur Nihaaro

Radhe Krishna Humare Dham Ko
Jaani Vrindavan Dham Padharo

Radhe Krishna Humare Dham Ko
Jaani Vrindavan Dham Padharo

Leave a Reply