सजा दो घर को गुलशन सा अवध में राम आए है

सजा दो घर को गुलशन सा अवध में राम आए है,
अवध मे राम आए है मेरे सरकार आए है,
लगे कुटिया भी दुल्हन सी अवध मे राम आए है,
सजा दो घर को गुलशन सा अवध मे राम आए है।।

पखारो इनके चरणों को बहा कर प्रेम की गंगा,
बहा कर प्रेम की गंगा बिछा दो अपनी पलकों को,
अवध मे राम आए है सजा दो घर को गुलशन सा,
अवध मे राम आए है।।

तेरी आहट से है वाकिफ नहीं चेहरे की है दरकार,
बिना देखें ही कह देंगे लो आ गए है मेरे सरकार,
दुआओं का हुआ है असर दुआओं का हुआ है असर,
अवध मे राम आए है सजा दो घर को गुलशन सा,
अवध मे राम आए है।।

सजा दो घर को गुलशन सा अवध में राम आए है,
अवध मे राम आए है मेरे सरकार आए है,
लगे कुटिया भी दुल्हन सी अवध मे राम आए है,
सजा दो घर को गुलशन सा अवध मे राम आए है।।

Saja Do Ghar Ko Gulshan Sa
Awadh Mein Ram Aaye Hai

Awadh Mein Ram Aaye Hai
Mere Sarkar Aaye Hai

Lage Kutiya Bhi Dulhan See
Awadh Mein Ram Aaye Hai

Saja Do Ghar Ko Gulshan Sa
Awadh Mein Ram Aaye Hai

Pakharo Inke Charno Ko
Bahakar Prem Ki Ganga

Bichha Do Apni Palko Ko
Awadh Mein Ram Aaye Hai

Saja Do Ghar Ko Gulshan Sa
Awadh Mein Ram Aaye Hai

Teri Aahahat Se Hai Vakif
Nahi Chehre Ki Hai Darkar
Bina Dekhe Hi Keh Denge
Lo Aa Gaye Hai Mere Sarkar

Duao Ka Hua Hai Asar
Awadh Mein Ram Aaye Hai

Saja Do Ghar Ko Gulshan Sa
Awadh Mein Ram Aaye Hai

Awadh Mein Ram Aaye Hai
Mere Sarkar Aaye Hai

Lage Kutiya Bhi Dulhan See
Awadh Mein Ram Aaye Hai

Saja Do Ghar Ko Gulshan Sa
Awadh Mein Ram Aaye Hai

Ram Bhajan Lyrics

Leave a Reply