shiv baba ko yaad kar jee bhar usko pyaar kar sanso ko abaad karle eh mere mnaa

शिव बाबा को याद कर जी भर उसको प्यार कर,
सांसो को आबाद करले एह मेरे मना,

आया लेके झूमती बहारे रिम झिम बरसती,
स्नेह की फुहारे,
रंग निराला है रूप सलोना दिल चाहे उससे जुदा कब ना होना,
अब न इंतज़ार कर बैठ न हिमत हार कर,
प्रभु का तू दीदार कर ले एह मेरे मना,
शिव बाबा को याद कर ……….

यादो की लेहरो में जो लहराए,
एक अलौकिक सुख वो पाए,
जूही को काँटा करदे कांटे को जूही,
पर्वत को राही करदे राही को जूही,
दिल ही दिल में बात कर मन में मुलाक़ात कर,
खुद को तो आज़ाद करले एह मेरे मना
शिव बाबा को याद कर …….

Leave a Reply